Sad shayari in hindi on love/ख़ुमार बारबंकवि शायरी

Sad shayari in hindi on love/ख़ुमार बारबंकवि शायरी

कुछ शायर ऐसे होते हैं जिनकी मौजूदगी मुशायरों की कामयाबी की सनद होती है | खुमार बाराबंकी का नाम ऐसे ही शायरों मैं आता है |वो जिस मुशायरों में अपना कलाम पढ़ते सबकोअपना दीवाना बना लेते थे |
Khumar barabankvi
खुमार  बारबंकविकी “आबरुए ग़ज़ल ” भी कहा जाता है |

खुमार बाराबंकी उत्तर प्रदेश के बाराबंकी मैं पैदा हुए ख़ुमार का असली नाम मोहम्मद हैदर ख़ान था|ख़ुमारको शराब का बहुत शौक़ था |ख़ुमार मुशायरों में तरन्नुम में पढ़ना पसंद करते थे|आप सबके लिए हम ख़ुमार बाराबंकवी की मशहूर ग़ज़लें लेकर आए हैं |Best sad shayari for lovers.

sad shayari images
sad shayari

Mujhe phir wahi yaad Aane Lage Hain/मुझे फिर वही याद आने लगे हैं

“Muddaton gham pe gham uthaye hain
Tab kahin jaake muskuraye hain
Ek nigahe khuloos ki khatir
Zindagi bhar fareb khaye hain”

Mujhe phir wahi yaad aane lage hain
Jinhe bhulne main zamane lage hain

Suna hai wo humko bhulane lage hain
To kya hum unhe yaad aane lage hain

Ye kehna tha unse mohabbat hain mujhko
Ye kehne main unse zmane lage hain

Qayamat yaqinan qareeb aa gaye hai
“khumar”ab to masjid main jaane lage hain

“मुद्दतों ग़म पे ग़म उठाएँ हैं
तब कहीं जाके मुस्कुराए हैं
एक निगाहे खुलूस की ख़ातिर
ज़िंदगी भर फ़रेब खाए हैं ”

मुझे फिर वही याद आने लगे हैं
जिनहे भुलने मैं ज़माने लगे हैं

सुना है वो हमको भुलाने लगे हैं
तो क्या हम उन्हे याद आने लगे हैं

ये कहना था उनसे मोहब्बत है मुझको
ये कहने मैं उनसे ज़माने लगे हैं

क़यामत यक़ीनन क़रीब आ गई है
“ख़ुमार” अब तो मस्जिद मैं जाने लगे

Tere dar se jab uthke jana padega

Tere dar se jab uthke jana padega
Khud apna jnaza uthana padega

Ab ankhon ko dariya bnana padega
Tabssumm ka qarza chukana padega

Blaa se mera gham na ho unpe zahir
Jab aayenge wo muskurana padega

Chla hon main kuche se unke bigadkar
Hansi aa rahi hai ke aana padega

“Khumar ” unke ghar jaa rahe ho to jao
Magar rastee main zmana padega

तेरे दर से जब उठके जाना पड़ेगा

तेरे दर से जब उठके जाना पड़ेगा
खुद अपना जनाज़ा उठाना पड़ेगा

अब आँखों को दरिया बनाना पड़ेगा
तबस्सुम का क़र्ज़ा चुकाना पड़ेगा

बला से मेरा ग़म न हो उनपे ज़ाहीर
जब आएंगे वो मूसकुराना पड़ेगा

चला हों मैं कूचे से उनके बिगड़कर
हंसी आ रही है फिर आना पाड़ेगा

“खुमार” उनके घर जा रहे हो तो जाओ
मगर रास्ते मैं ज़माना पड़ेगा

sad shayari photo
sad shayari hindi image

Dori ke gham kuch aur siva ho ke reh gaye

Dori ke gham kuch aur siva ho ke reh gaye
Hum unse kiya mile ke juda ho ke reh gaye

khoye hoye the der se wo meri yaad main
Mujh par nazar padi to khfa ho ke reh gaye

Majboor ho ke mangi thi lutfo karam ki bhekh
lutfo karam bhi johro wfa ho ke reh gaye

Ab kya rha tere liye a ishqe namuraad
Ab wo bhi mubtlaye wfa ho ke reh gaye

Lillah aina to kabhi dekh lo “khumar”
Tum kya the ishq main kya ho ke reh gaye

दूरी के ग़म कुछ और सिवा हो के रह गए
हम उनसे क्या मिले के जुदा हो के रह गए

खोए हुए थे देर से वो मेरी याद मैं
मुझ पर नज़र पड़ी तो खफा हो के रह गए

मजबूर हो के मांगी थी लुत्फ़ों करम की भीख
लुत्फ़ों करम भी जोहरों वफा हो के रह गए

अब क्या रहा तेरे लिए ए इशके नामुराद
अब वो भी मुब्तलाए वफा हो के रह गए

लिल्लाह आईना तो कभी देख लो ख़ुमार
तुम क्या थे इश्क़ मैं क्या हो रह गए

sad shayari
sad shayari for girlfriend
wo kun hain jo gham ka mzaa jaan the nahi

wo kun hain jo gham ka mzaa jaante nahi
Bus dosron ke dard ko pehchante nahi

Kambakht ankh uthi na kabhi unke robro
Hum unko jaante to hain pehchante nahi

Mulvi kholos hai tere andaze fikr main
Hum teri guftugo ka boora mante nahi

Hadse badhe jo ilm bhi hai jeehle dosti
sab kuch jo jante hain wo kuch jaante nahi

Is jbre maslahet se to rusvaeyan bhali
Jaise ke hum unhe wo hamen jante nahi

Rehte hain aafiyet se wahi log a Khumar
Jo zindagi main dil ka kha mante nahi

वो कौन हैं जो ग़म का मज़ा जानते नहीं
बस दूसरों के दर्द को पहचानते नहीं

कमबख़्त आँख उठी न कभी उनके रुबरु
हम उनको जानते तो हैं पहचानते नहीं

मौलवी खुलूस है तेरे अंदाज़े फ़िक्र मैं
हम तेरी गुफ़्तुगु का बुरा मानते नहीं

हदसे बढ़े जो इल्म भी है जेहेल दोस्तों
सब कुछ जो जानते हैं वो कुछ जानते नहीं

इस जबरे मसलहत से तो रुस्वाइयाँ भली
जैसेके हम उन्हे वो हमें जानते नहीं

रहते हैं आफ़ियेत से वही लोग ए खुमार
जो ज़िंदगी मैं दिल का कहा मानते नहीं

Jab unki berukhi ka mzaa yaad kijiye

Jab unki berukhi ka mzaa yaad kijiye
Majbooriyon ko unki zra yaad kijiye

Aye aaj bhi jo kisi bewfa ki yaad
Ji chata hai aur siva yaad kijiye

Pehle to aap milte na the dooriyon ke sath
Ye inqlab kaise hua yaad kijiye

Han tauba meri toot gaye kal jnabe sheikh
Chai thi kis gazab ki ghta yaad kijiye

Mar -mar ke te hua safre zindagi magar
Manzil jab aagye hai to kya yaad kijiye

Ab bhi hai zindagi ki hawas aapko Khumar
Ab tak kati hai kaise zra yaad kijiye

जब उनकी बेरुख़ी का मज़ा याद कीजिये
मजबूरीयों को उनकी ज़रा याद कीजिये

आए आज भी जो किसी बेवफ़ा की याद
जी चाहता है और सिवा याद कीजिये

पहले तो आप मिलते न थे दूरियों के साथ
ये इंकलाब कैसे हुआ याद कीजिये

हाँ तौबा मेरी टूट गयी कल जनाबे शेख
छाई थी किस गजब की घटा याद कीजिये

मर -मर के तै हुआ सफरे ज़िंदगी मगर
मंज़िल जब आ गयी है तो क्या याद कीजिये

अब भी है ज़िंदगी की हवस आपको खुमार
अब तक कटी है कैसे ज़रा याद कीजिये

Ishq rasta hai manil nahiz

Sad shayari for love

Kya hua husan hai humsafar ya nahi
Ishq rasta hi rasta hai manzil nahi

Do parinde ude ankh nam ho gaye    

Aasmjha ke main tujhko bhula nahi

Tarke maye(wine) ko abhi din hi kitne hue
Kuch kha maye(wine) ko zahid to acha nahi

Har nazar meri ban jaati zanjeere pa
Usne jaate hoye mood ke dekha nahi

Chod bhi de mera sath a zindagi
Mujhko tujhse ndamat hai shikwa nahi

Tuba to tune kareli magar a Khumar
Tujhko rehmat pe shayad bhrosa nahi

क्या हुआ हुसन है हुमसफ़र या नहीं
इश्क़ रास्ता ही रास्ता है मंज़िल नहीं

दो परिंदे उड़े आँख नाम हो गई
आज समझा के मैं तुझको भुला नहीं

तर्के मै (शराब )को अभी दिन ही कितने हुए
कुछ कहा मै (शराब) को ज़ाहिद (मौलाना ) तो अच्छा नहीं

हर नज़र मेरी बन जाती जंजीरे पा (पैर की ज़ंजीर )
उसने जाते हुए मुड़ के देखा नहीं

तौबा तो तूने करली मगर ए ख़ुमार
तुझको रहमत पे शायद भरोसा नहीं

Tere dar se uthkar jidhar jaun main

Tere dar se uthkar jidhar jaon main
Chalon do qadam aur Thahar jaon main

Sambhale to hon khud ko tujh bin magar
Jo chhu le koi to bikhar jaon main

Agar to khfa ho to parva nahi
tera gham khafa ho to mar jaon main

Tabassum ne itna dasa hai mujhe
Kli muskura e to dar jaon main

Mera ghar fasadat(ladai) maiin jal chuka
Vatan jaun to kiske ghar jaun main

“khumar”unse tarke-e- taalluq baja
Magar jeete- ji kaise mar jaon main

तेरे दर से उठकर जिधर जाओं मैं

तेरे दर से उठकर जिधर जाओं मैं
चलो दो कदम और ठहर जाओं मैं

संभाले तो हों खुदको तुझ बिन मगर
जो छु ले कोई तो बिखर जाओं मैं

अगर तो खफा हो तो परवा नहीं
तेरा ग़म खफा हो तो मर जाओं मैं

तबसुम ने इतना डसा है मुझे
कली मुस्कुराए तो डर जाओं मैं

मेरा घर फ़सादत (लड़ाई) मैं जल चुका
वतन जोएन तो किसके घर जाओं मैं

“खुमार” उनसे तर्के ताल्लुक़ बजा
मगर जीते जी कैसे मर जाओं मैं

sad shayari for love
sad shayari for love

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

Leave a Comment

Thor: Love and Thunder’ Trailer Breakdown Love status | Whatsapp status love Anime love quotes | Quotes about love anime Bhool Bhulaiyaa 2 box office day 4 collection Priyanka Chopra Nick Jonas | Nick Jonas Priyanka Chopra Photos