70+Rahat indori shayari in hindi|Rahat indori shayari

rahat-indori-shayari-in-hindi
rahat-indori-shayari-in-hindi

Rahat indori shayari in hindi

किसी के बाप का हिन्दोस्तान थोड़ी है

1)अगर ख़िलाफ़ हैं होने दो, जान थोड़ी है
ये सब धुआँ है कोई आसमान थोड़ी है

लगेगी आग तो आएँगे घर कई ज़द में
यहाँ पे सिर्फ़ हमारा मकान थोड़ी है

मैं जानता हूँ के दुश्मन भी कम नहीं लेकिन
हमारी तरहा हथेली पे जान थोड़ी है

हमारे मुँह से जो निकले वही सदाक़त है
हमारे मुँह में तुम्हारी ज़ुबान थोड़ी है

जो आज साहिबे मसनद हैं कल नहीं होंगे
किराएदार हैं ज़ाती मकान थोड़ी है

सभी का ख़ून है शामिल यहाँ की मिट्टी में
किसी के बाप का हिन्दोस्तान थोड़ी है

Ager khilaaf hain hone do, jaan thodi hai
Ye sab dhuan hai aasmaan thodi hai

Lagegi aag to ghar ayenge kai zad mein
Yhan pe sirf hmara makaan thodi hhai

Mein jaanta hon ke dushman bhi kam nnahi lekin
Hmari trah hatheli pe jaan thodi hai

Hmare munh se jo nikle wahi sadaqat hai
Hmare munh mein tumhari zbaan thodi hai

Jo aaj sahibe mansad hain kal nahi honge
Kirayedaar hain zaati mkaan thodi hai

Sabhi ka khoon hai shamil yhan ki mitti mein
Kisi ke baap ka hindostaan thodi hai

Haath khali hain tere shehar se jate-jate

rahat-indori-shayari-in-hindi
rahat-indori-shayari-in-hindi

2)हाथ ख़ाली हैं तेरे शहर से जाते जाते
जान होती तो मेरी जान लुटाते जाते

अब तो हर हाथ का पत्थर हमें पहचानता है
उम्र गुज़री है तेरे शहर में आते जाते

अब के मायूस हुआ यारों को रुख़्सत कर के
जा रहे थे तो कोई ज़ख़्म लगाते जाते

रेंगने की भी इजाज़त नहीं हम को वर्ना
हम जिधर जाते नए फूल खिलाते जाते

मैं तो जलते हुए सहराओं का इक पत्थर था
तुम तो दरिया थे मेरी प्यास बुझाते जाते

मुझ को रोने का सलीक़ा भी नहीं है शायद
लोग हँसते हैं मुझे देख के आते जाते

हम से पहले भी मुसाफ़िर कई गुज़रे होंगे
कम से कम राह के पत्थर तो हटाते जाते

Haath khali hain tere shehar se jate-jaate
Jaan hoti to meri jaan lootate jaate

Ab to har hath ka pathar hamen pehchanta hai
Umr guzri hai tere shaher mein aate – jaate

Abke mmaayos hua yaaron ko rukhsat karke
Jaa rahe the to koi zakham lgate jaate

Rengane ki bhi ijazzt nahi humko varna
Hum jidher jaate naye phool khilate jaate

Mein to jalte huye sehraon ka ek pather hon
Tum to dariya the meri pyas bujhate jaate

Mujhko roone ka saliqa bhi nahi hai shayad
Log hanste hain mujhe dekhke aate-jaate

Hum se pehle bhi musafir kai guzren honge
Kam se Kam raah ke pather to htate jaate

rahat-indori-shayari-in-hindi-images
rahat-indori-shayari-in-hindi-images

Wfaa ko azmana chahiye tha

3)वफ़ा को आज़माना चाहिए था,
हमारा दिल दुखाना चाहिए था

आना न आना मेरी मर्ज़ी है,
तुमको तो बुलाना चाहिए था

हमारी ख्वाहिश एक घर की थी,
उसे सारा ज़माना चाहिए था

मेरी आँखें कहाँ नाम हुई थीं,
समुन्दर को बहाना चाहिए था

जहाँ पर पंहुचना मैं चाहता हूँ,
वहां पे पंहुच जाना चाहिए था

हमारा ज़ख्म पुराना बहुत है,
चरागर भी पुराना चाहिए था

मुझसे पहले वो किसी और की थी,
मगर कुछ शायराना चाहिए था

चलो माना ये छोटी बात है,
पर तुम्हें सब कुछ बताना चाहिए था

तेरा भी शहर में कोई नहीं था,
मुझे भी एक ठिकाना चाहिए था

कि किस को किस तरह से भूलते हैं,
तुम्हें मुझको सिखाना चाहिए था

ऐसा लगता है लहू में हमको,
कलम को भी डुबाना चाहिए था

अब मेरे साथ रह के तंज़ ना कर,
तुझे जाना था जाना चाहिए था

क्या बस मैंने ही की है बेवफाई,
जो भी सच है बताना चाहिए था

मेरी बर्बादी पे वो चाहता है,
मुझे भी मुस्कुराना चाहिए था

बस एक तू ही मेरे साथ में है
तुझे भी रूठ जाना चाहिए था

हमारे पास जो ये फन है मियां,
हमें इस से कमाना चाहिए था

अब ये ताज किस काम का है,
हमें सर को बचाना चाहिए था

उसी को याद रखा उम्र भर कि,
जिसको भूल जाना चाहिए था

मुझसे बात भी करनी थी,
उसको गले से भी लगाना चाहिए था

उसने प्यार से बुलाया था,
हमें मर के भी आना चाहिए था

Wfaa ko azmana chahiye tha
Hmara dil dukhana chahiye tha

Aana na aana meri marzi thi
Tumko to bolana chahiye tha

Hmari khawahish ek ghar ki thi
Use sara zamana chahiye tha

Meri aankhen khan nam hui thi
Samander ko to bhana chahiye tha

Jhan par mein phunchna chahata hon
whan pe phunch jana chahiye tha

Hmara zakham purana bhut tha
Charagar bhi purana chahiye tha

Mujhse pehle wo kisi aur ki thi
Magar kuch shayarana chahiye tha

Chalo mana ye choti baat hai
Par tumhe sab kuch btana chahiye tha

Tera bhi shaher mein koi nahi tha
Mujhe bhi ek thikana chahiye tha

Kisko kis trah se bhulte hain
Tumhe mijhko sikhana chahiye tha

Aisa lagta hai lahu mein hamko
Qalam ko bhi duubana chahiye tha

Ab mere saath rehke tanz naa kar
Tujhe jana tha jana chahiye tha

Kya bas maine hi ki hai bewfai
Jo bhi sach hai btana chahiye tha

Meri barbaadi pe wo chahta hai
Mujhe bhi muskurana chahiye tha

Bas ek to hi mere sath mein hai
Tujhe rooth bhi jana chahiye tha

Hmare paas jo ye phan hai miyan
Hamen isse kamana chahiye tha

Ab ye taaj kis kaam ka hai
Hamen sir ko bachana chahiye tha

Usi ko yaad rkha umr bhar
Jisko bhul jaanaa chahiye tha

Mujhse baat hi karni thi
Usko gale se bhi lgana cahiye tha

Usne pyar se bulaya tha
Hamen mar ke bhi jana chahiye tha

rahat-indori-shayari-in-hindi-love
rahat-indori-shayari-in-hindi-love

Read It:zindagi shayari|shayari on life 2019 50+|बेस्ट ज़िन्दगी शायरी

Mom ke paas kabhi aag ko laakr dekhon

4)मोम के पास कभी आग को लाकर देखूँ
सोचता हूँ के तुझे हाथ लगा कर देखूँ

कभी चुपके से चला आऊँ तेरी खिलवत में
और तुझे तेरी निगाहों से बच कर देखूँ

मैने देखा है ज़माने को शराबें पी कर
दम निकल जाये अगर होश में आकर देखूँ

दिल का मंदिर बड़ा वीरान नज़र आता है
सोचता हूँ तेरी तस्वीर लगा कर देखूँ

तेरे बारे में सुना ये है के तू सूरज है
मैं ज़रा देर तेरे साये में आ कर देखूँ

याद आता है के पहले भी कई बार यूं ही
मैने सोचा था के मैं तुझको भुला कर देखूँ

Mom ke pass kabhi aag ko lakar dekhon
Sochta hon ki tujhe hath lgakar dekhon

Kabhi chupke se chla jaon teri khilwat mein
Aur tujhe teri nigahon se bach kar dekhon

Maine dekha hai zmane ko shraben pee kar
Dam nikal jaye ager hosh mein aakar dekhon

Dil ka mandir bda weeran nazar aata hai
Mein zraa der tere saye mein aakar dekhon

Tere baare suna hai ke tu suraj hai
Mein zraa der tere saye mein aakar dekhon

Yaad aata hai ke pehle bhi kai baar yon hi
Maine socha hai ke main tujhko bhula kar dekhon

rahat-indori-shayari-in-hindi-lyrics
rahat-indori-shayari-in-hindi-lyrics

Jo mere dost bhi hai,mera humnwa bhi hai

5)जो मेरा दोस्त भी है, मेरा हमनवा भी है
वो शख्स, सिर्फ भला ही नहीं, बुरा भी है

मैं पूजता हूँ जिसे, उससे बेनियाज़ भी हूँ
मेरी नज़र में वो पत्थर भी है खुदा भी है

सवाल नींद का होता तो कोई बात ना थी
हमारे सामने ख्वाबों का मसअला भी है

जवाब दे ना सका, और बन गया दुश्मन
सवाल था, के तेरे घर में आईना भी है

ज़रूर वो मेरे बारे में राय दे लेकिन
ये पूछ लेना कभी मुझसे वो मिला भी है

Jo mera dost bhi hai mera hamnwa bhi hai
Wo shakhs,sirf bhala hi nahi boora bhi hai

Mein poojta hon jise,usse beniyaaz bhi hon
Meri nazar mein wo pather bhi hai khuda bhi hai

Swaal nind ka hota to koi baat naa thi
Hmare saamne khawabon ka masalla bhi hai

Jwab de na ska,aur ban gya dushman
Swal tha ,ke tere ghar mein aaina bhi hai

Zarror wo mere bare mein rai de lekin
Ye poch lena kabhi mujhse wo ila bhi hai

rahat-indori-shayari
rahat-indori-shayari

6)Ajnabi khawahishen seene mein dbaa

अजनबी खवहिशें सीने में दबा भी न सकूँ
ऐसे जिद्दी है परिंदे के उड़ा भी न सकूँ 

फूंक डालूँगा किसी रोज़ में दिल की दुनिया
ये  तेरे  ख़त तो नहीं हैं के जला भी न सकूँ

मेरी गौरत भी कोई शय है के महफ़िल में मुझे
उसने इस तरह बुलाया है के जा भी न सकूँ

फल तो सब मेरे दरख्तों के पके हैं लेकिन
इतनी कमज़ोर हैं शाखें के हिला भी न सकूँ

एक न एक रोज़ कहीं ढूंड ही  लूँगा तुझको
ठोकरें ज़हर नहीं हैं के खा भी न सकूँ

Ajnabi  khawahishen seene mein dba bhi na sakun 

Aisey ziddi hain parinde ki udaa bhi na sakun

Phonk daloonga kisi roz mein dil ki duniya
Ye tere khat to nahi hain ke jlaa bhi na sakun

Meri gairat bhi koi shay hai ki mehfil mein mujhe
Usne is trah bulaya ke jaa bhi na sakun

Phal to sab mere darkhton ke pake hai lekin
Itni kamzoor hainshakhen ki hila bhi na sakun

Ek na Ek roz kaheen dhoond hi loonga usko
Thokren zehar nahi hain ke kha bhi na sakun

Rahat indori shayari in hindi images

1)बनके एक हादसा बाज़ार में आ जाएगा
जो नहीं है वो अखबार में आ जाएगा
चोर उचक्कों की करो क़द्र ,की मालूम नहीं
कौन कब कौन सी सरकार में आ जाएगा

Banke ek haadsa baazar mein aa jayega
Jo nahi hai wo akhbaar mein aa jaayega
Chor uchakkon ki karo qadar ki malum nahi
Kaun kab kaun si saarkaar mein aa jaayega

2)नई हवाओं की सौहबत बिगाड़ देती है
कबूतरों को खुली छत बिगाड़ देती है

जो जुर्म करते हैं बुरे नहीं होते
सज़ा न देके अदालत बिगड़ देती है

Nai hwaon ki suhabat bigad deti hai
kabutron ko khuli chatt bigad deti hai

Jo jurm karte hain boore nahi hote
Szaa na deke adaalaat bigaad deti hai

3)अपने हाकिम की फकीरी पे तरस आता है
जो गरीबों से पसीने की कमाई मांगे

Apne haakim ki faqiri pe taras aata hai
Jo garibon se paseene ki kmaai maange

4)सरहदों पर तनाव हे क्या
ज़रा पता तो करो चुनाव हैं क्या

Sarhadon par tanaav he kya
Jara pata to karo chunaav hain kya

5)अब ना मैं हूँ, ना बाकी हैं ज़माने मेरे​,
फिर भी मशहूर हैं शहरों में फ़साने मेरे​,
ज़िन्दगी है तो नए ज़ख्म भी लग जाएंगे​,
अब भी बाकी हैं कई दोस्त पुराने मेरे।

Ab Na Main Hun, Na Baaqi Hai Zamane Mere,
phir Bhi Mashhoor Hain Shaharon Mein Fasane Mere,
Zindagi Hai Toh Naye Zakhm Bhi Lag Jayenge,
Ab Bhi Baaqi Hain Kayi Dost Puraane Mere.

6)उस की याद आई है साँसो ज़रा आहिस्ता चलो
धड़कनों से भी इबादत में ख़लल पड़ता है

Uski yaad aayi hai saanson zraa ahista chalo
Dhadkanon se bhi ibadat mein khalal padta hai

7)हम से पहले भी मुसाफ़िर कई गुज़रे होंगे
कम से कम राह के पत्थर तो हटाते जाते

Hum se pehle bhi musafir kai guzre honge
Kam se Kam raah ke pathar to htate jaate

8)रोज़ तारों को नुमाइश में ख़लल पड़ता है
चाँद पागल है अँधेरे में निकल पड़ता है

Roz taaron ki nomaish mein khalal padta hai
Chand pagal hai andheron mein nikal padta hai

9)जागने की भी, जगाने की भी, आदत हो जाए
काश तुझको किसी शायर से मोहब्बत हो जाए
दूर हम कितने दिन से हैं, ये कभी गौर किया
फिर न कहना जो अमानत में खयानत हो जाए||

Jaagne ki bhi ,jgaane ki bhi aadat ho jaye
Kaash tumko kisi shayar se muhabbat ho jaye
Door hum kitne dino se hain kabhi gaur kiya
Phir naa kehna jo amaanat mein khayanat ho jaye

Rahat indori shayari on politics in hindi

10)अब हम मकान में ताला लगाने वाले हैं
पता चला हैं की मेहमान आने वाले हैं||

Ab hum makaan mein taala lgaane wale hain
Ptaa chala hai ke mehmaan aane wale hain

Rahat indori shayari in hindi images

11)रात की धड़कन जब तक जारी रहती है
सोते नहीं हम ज़िम्मेदारी रहती है

Raat ki dhadkan jabtak jaari rehti hai
Sote nahi hum zimmedari rehti hai

12)घर के बाहर ढूँढता रहता हूँ दुनिया
घर के अंदर दुनिया-दारी रहती है

Ghar ke baahar dhundta rehtaa hun duniya
Ghar ke ander duniya daari rehti hai

13)गुलाब, ख्वाब, दवा, ज़हर, जाम क्या क्या हैं
में आ गया हु बता इंतज़ाम क्या क्या हैं

Gulaab,khawab,dwaa,zeher,jaam kya-kya hai
Mein aa gyaa hun btaa intezaam kya-kya hai

14)फ़क़ीर, शाह, कलंदर, इमाम क्या क्या हैं
तुझे पता नहीं तेरा गुलाम क्या क्या हैं|

Faqir, shaah, qalandar,imaam kya-kya hai
Tujhe pta nahi tera ghulam kya-kya hai

15)मैं आख़िर कौन सा मौसम तुम्हारे नाम कर देता
यहाँ हर एक मौसम को गुज़र जाने की जल्दी थी

Mein aakhir kaun sa mausam tumhare naam kar deta
Yhaan har ek mausam ko guzar jaane ki bhut jaldi thi

16)जुबां तो खोल, नजर तो मिला, जवाब तो दे
मैं कितनी बार लुटा हूँ, हिसाब तो दे

Zuban to khol,nazar to mila,jwab to de
Mein kitni baar luta hon,hisaab to de

17)तेरे बदन की लिखावट में हैं उतार चढाव बहुत
में तुझको कैसे पढूंगा, मुझे किताब तो दे

Tere badan ki likhawat mein hain utaar chadhav bhut
Mein tujhko kaise padhunga, mujhe kitaab to de

18)फूलों की दुकानें खोलो, खुशबू का व्यापार करो
इश्क़ खता है तो, ये खता एक बार नहीं, सौ बार करो

Pholon ki dukaane kholon,khushbu ka vyapaar karo
Ishq khata hai to ye khata ek baar nahi sau baar karo

19)आँख में पानी रखो होंटों पे चिंगारी रखो
ज़िंदा रहना है तो तरकीबें बहुत सारी रखो

Ankh mein paani rakho honton pe chingari rakho
Zinda rehna hai to tarkeeben bhut saari rakho

Rahat indori shayari

20)किसने दस्तक दी, दिल पे, ये कौन है
आप तो अन्दर हैं, बाहर कौन है

Kisne dastak di, dil pe, ye kaun hai
Aap to ander hai,bahar kaun hai

21)ये हादसा तो किसी दिन गुजरने वाला था
मैं बच भी जाता तो एक रोज मरने वाला था

Ye haadsa to kisi din guzarne wala tha
Mein bach bhi jata to ek roz marne wala tha

22)मेरा नसीब, मेरे हाथ कट गए वरना
मैं तेरी माँग में सिन्दूर भरने वाला था

Mera naseeb,mere hath kat gaye warna
Mein teri maang mein sindoor bharne wala tha

23)अंदर का ज़हर चूम लिया धुल के आ गए
कितने शरीफ़ लोग थे सब खुल के आ गए

Ander ka zaher chum liya dhul ke aa gaye
Kitne sharif log the sab khul ke aa gaye

24)कहीं अकेले में मिल कर झिंझोड़ दूँगा उसे
जहाँ जहाँ से वो टूटा है जोड़ दूँगा उसे

Kahin akele mein mil kar jhinjod dunga usse
Jhan jhan se wo toota hai jod dunga usse

25)मोड़ होता है जवानी का सँभलने के लिए
और सब लोग यहीं आ के फिसलते क्यूं हैं

Maud hota hai jwaani ka sanbhalne ke liye
Aur sab log yahin aake phisalte kyoun hain

26)नींद से मेरा ताल्लुक़ ही नहीं बरसों से
ख़्वाब आ आ के मेरी छत पे टहलते क्यूं हैं

Nind se mera taaluq hi nahi barson se
Khawab aa aa ke meri chatt pe tahelte kyoun hain

27)इन रातों से अपना रिश्ता जाने कैसा रिश्ता है
नींदें कमरों में जागी हैं ख़्वाब छतों पर बिखरे हैं

In raton se apna rishta jaane kaisa rishta hai
Nind kamron mein jaagi hai khawab chaton par bikhre hain

28)सूरज, सितारे, चाँद मेरे साथ में रहें
जब तक तुम्हारे हाथ मेरे हाथ में रहें

Suraj, sitaare, chaand mere saath me rahe
jab tak tumhare haath mere haath me rahe

29)शाखों से टूट जाए वो पत्ते नहीं हैं हम
आंधी से कोई कह दे की औकात में रहें

Shaakhon se toot jaaye wo patte nahi hain hum
Aandhi se koi kah de ki aukaat me rahe

30)कभी महक की तरह हम गुलों से उड़ते हैं
कभी धुएं की तरह पर्वतों से उड़ते हैं

Rahat indori shayari in hindi love

Kabhi mahak ki tarah hum gulon se udate hain
kabhi dhuyen ki tarah parvaton se udate hain

31)ये केचियाँ हमें उड़ने से खाक रोकेंगी
की हम परों से नहीं हौसलों से उड़ते हैं

Ye kechiya hume udne se khaak rokengi
Ki hum paron se nahi housalon se udate hain

32)हर एक हर्फ़ का अंदाज़ बदल रखा है
आज से हमने तेरा नाम ग़ज़ल रखा है

Har ek harf ka andaaz badal rakha hain
Aaj se humne tera naam gazal rakha hai

33)मैंने शाहों की मोहब्बत का भरम तोड़ दिया
मेरे कमरे में भी एक “ताजमहल” रखा है

Maine shaahon ki mohabbt ka bharm tod diya
Mere kamre me bhi aek Tajmahal rakha hai

34)जवानियों में जवानी को धुल करते हैं
जो लोग भूल नहीं करते, भूल करते हैं

Jawaniyon me jawani ko dhul karte hain
Jo log bhul nahi karte, bhul karte hain

35)अगर अनारकली हैं सबब बगावत का
सलीम हम तेरी शर्ते कबूल करते हैं

Agar Anaarkali hain sabab bagaavat ka
Salim hum teri sharten qubool karte hain

36)नए सफ़र का नया इंतज़ाम कह देंगे
हवा को धुप, चरागों को शाम कह देंगे

aye safar ka naya intzaam kah denge
Hawa ko dhup, charaagon ko shaam kah denge

37)किसी से हाथ भी छुप कर मिलाइए
वरना इसे भी मौलवी साहब हराम कह देंगे

Kisi se hatth bhi chhupa kar milaiye
Warna maulvi saahab ise bhi haraam kah denge

38)जवान आँखों के जुगनू चमक रहे होंगे
अब अपने गाँव में अमरुद पक रहे होंगे

Jawaan aankhon ke jugnoo chamak rahe honge
Ab apne gaonv me amrood pak rahe honge

39)भुलादे मुझको मगर, मेरी उंगलियों के निशान
तेरे बदन पे अभी तक चमक रहे होंगे

Bhulade mujhko magar, meri ungaliyon ke nishaan
Tere badan pe abhi tak chamak rahe honge

40)काम सब गेरज़रुरी हैं, जो सब करते हैं
और हम कुछ नहीं करते हैं, गजब करते हैं

Kam sab gerjaruri hain, jo sab karte hain
Aur hum kuch nahi karte, gajab karte hain

41)ये सहारा जो न हो तो परेशां हो जाए
मुश्किलें जान ही लेले अगर आसान हो जाए

Ye sahara jo na ho to preshaan ho jaaye
Mushkile jaan hi lele agar aasan ho jaaye

42)ये कुछ लोग फ़रिश्तों से बने फिरते हैं
मेरे हत्थे कभी चढ़ जाये तो इन्सां हो जाए

Ye kuch log farishton se bane phirte hain
Mere hatthe kabhi chad jaaye ti insaan ho jaaye

43)सफ़र की हद है वहां तक की कुछ निशान रहे
चले चलो की जहाँ तक ये आसमान रहे

Safar ki had hain waha tak ki kuch nishaan rahe
Chale chalon ki jaha tak ye aasaman rahe

44)ये क्या उठाये कदम और आ गयी मंजिल
मज़ा तो तब है के पैरों में कुछ थकान रहे

Ye kya uthaaye kadam aur aa gayi manjil
Maza to tab hain ke paeron mein kuch thakaan rahe

45)तुफानो से आँख मिलाओ, सैलाबों पे वार करो
मल्लाहो का चक्कर छोड़ो, तैर कर दरिया पार करो

Tufaano se aankh milao sailabon pe war karo
Mallaho ka chakkar chodo tair kar dariya paar karo

46)उसकी कत्थई आंखों में हैं जंतर मंतर सब
चाक़ू वाक़ू, छुरियां वुरियां, ख़ंजर वंजर सब

Uski kathai aankho me hain jantar-mantar sab
chaqu -waaqu,churiyan -wuriyan khanjar-wanjar sab

47)जिस दिन से तुम रूठीं,मुझ से, रूठे रूठे हैं
चादर वादर, तकिया वकिया, बिस्तर विस्तर सब

Jis din se tum ruthi,mujhse ruthe hain
Chaadar-waadar,takiya-wakiya,bistar-wistar sab

48)मुझसे बिछड़ कर, वह भी कहां अब पहले जैसी है
फीके पड़ गए कपड़े वपड़े, ज़ेवर वेवर सब

Mujhse bichhar ke wo bhikahaan pahle jaisi hai
Dhile par gaye kapde-wapre,zewar-wevar sab

49)जा के कोई कह दे, शोलों से चिंगारी से
फूल इस बार खिले हैं बड़ी तैयारी से

Jaa ke koi kah de, sholon se chingaari se
Phool is bar khile hain badi taiyaari se

50)बादशाहों से भी फेके हुए सिक्के ना लिए
हमने खैरात भी मांगी है तो खुद्दारी से

Baadshaahon se bhi pheke hue sikke na liye
Humne khairaat bhi maangi hain to khuddari se

51)बन के इक हादसा बाज़ार में आ जाएगा
जो नहीं होगा वो अखबार में आ जाएगा

Ban ke ik hadasa bazaar me aa jayega
Jo nahi hoga wo akhbaar me aa jayega

52)लोग हर मोड़ पे रुक रुक के संभलते क्यों हैं
इतना डरते हैं तो फिर घर से निकलते क्यों हैं

Log har mod pe ruk ruk ke sambhalte kyo hain
Itna darte hain to ghar se nikalte kyo hain

53)साँसों की सीडियों से उतर आई जिंदगी
बुझते हुए दिए की तरह, जल रहे हैं हम

Saanson ki seediyon se utar aayi zindgi
Bhujte hue diye ki tarah jal rahe hain hum

54)उम्रों की धुप, जिस्म का दरिया सुखा गयी
हैं हम भी आफताब, मगर ढल रहे हैं हम

Umron ki dhup , jism ka dariya sukha gayi
Hain hum bhi aaftaab, magar dhal rahe hain hum

55)इश्क में पीट के आने के लिए काफी हूँ
मैं निहत्था ही ज़माने के लिए काफी हूँ

Ishq me peet ke aane ke liye kafi hoon
Main nihattha hi zamane ke liye kaafi hun

56)हर हकीकत को मेरी, खाक समझने वाले
मैं तेरी नींद उड़ाने के लिए काफी हूँ

Har haqiqat ko meri, khaak samjhne wale
Main teri neend udaane ke liye kaafi hun

57)एक अख़बार हूँ , औकात ही क्या है मेरी
मगर शहर में आग लगाने के लिए काफी हूँ

Ek akhbaar hoon, auqaat hi kya hai meri
Magar shahar me aag lagaane ke liye kaafi hoon

58)दिलों में आग, लबों पर गुलाब रखते हैं
सब अपने चहेरों पर, दोहरी नकाब रखते हैं

Dilon me aag, labon par gulab rakhte hain
Sab apne chheron par, dohari naqaab rakhte hain

59)हमें चराग समझ कर भुझा ना पाओगे
हम अपने घर में कई आफ़ताब रखते हैं

Hamen charaag smajh kar bhuja na paaonge
Hum apne ghar me kai aaftaab rakhte hain

60)राज़ जो कुछ हो इशारों में बता देना
हाथ जब उससे मिलाओ दबा भी देना

Raaz jo kuch ho ishaaron me bata bhi dena
Haath jab usse milaao dabaa bhi dena

61)नशा वेसे तो बुरी शे है, मगर
“राहत”से सुननी हो ग़ज़ल ,तो थोड़ी सी पिला भी देना

Nashaa vese to buri shai hai magar
“Rahat” se sunni ho ghazal to thodi si pilaa bhi dena

62)इस से पहले की हवा शोर मचाने लग जाए
मेरे “अल्लाह” मेरी ख़ाक ठिकाने लग जाए

Is se pahle ki hawa shor machane lag jaaye
Mere “Allaha” meri khak thikane lag jaaye

63)घेरे रहते हैं खाली ख्वाब मेरी आँखों को
काश कुछ देर मुझे नींद भी आने लग जाए

Ghere rahte hai khali khwab meri aankhon ko
Kaash kuch der mujhe neend bhi aane lag jaaye

64)साल भर ईद का रास्ता नहीं देखा जाता
वो गले मुझ से किसी और बहाने लग जाए

Saal bhar Iad ka rasta nahi dekha jaata
Wo gale mujh se kisi aur bahane se lag jaaye

65)दोस्ती जब किसी से की जाये
दुश्मनों की भी राय ली जाए

Dosti jab kisi se ki jaaye
Dushmano ki bhi raye lee jaaye

66)बोतलें खोल के तो पि बरसों
आज दिल खोल के पि जाए

Botlen khol ke to pi barson
Aaj dil khol ke pi jaaye

67)फैसला जो कुछ भी हो, हमें मंजूर होना चाहिए
जंग हो या इश्क हो, भरपूर होना चाहिए

Faisla jo kuch bhi ho, hume manzoor hona chahiye
Jung ho ya ishq ho, Bharpur hona chahiye

68)भूलना भी हैं, जरुरी याद रखने के लिए
पास रहना है, तो थोडा दूर होना चाहिए

Bhoolna bhi hai, zaroori yaad rakhne ke liye
Paas rahna hai, to thoda door hona chahiye

69)चलते फिरते हुए मेहताब दिखाएँगे तुम्हे
हमसे मिलना कभी पंजाब दिखाएँगे तुम्हे

Chalte phirte hue mehtaab dikhayenge tumhe
Humse milna kabhi Punjab dikhayenge tumhe

70)कश्ती तेरा नसीब चमकदार कर दिया
इस पार के थपेड़ों ने उस पार कर दिया

Kashti tera naseeb chamkadar kar diya
Is paar ke thapedon ne us paar kar diya

71)अफवाह थी की मेरी तबियत ख़राब हैं
लोगो ने पूछ पूछ के बीमार कर दिया

Afwah thi ki meri tabiyat khrab hai
Logo ne puch puch ke bimar kar diya

 

Leave a Comment

Thor: Love and Thunder’ Trailer Breakdown Love status | Whatsapp status love Anime love quotes | Quotes about love anime Bhool Bhulaiyaa 2 box office day 4 collection Priyanka Chopra Nick Jonas | Nick Jonas Priyanka Chopra Photos