61+Gulzar Shayari|Gulzar shayari on life|

Gulzar is very famous for his Shayari, as Gulzar Shayari has a significant number of searches online on the internet.

Gulzar has also been awarded many famous awards for Hindi cinema.

He has also been awarded the Padma Bhushan, India’s highest honor in 2004.

In addition, he received the Oscar Award for Best Song in 2009 for his song Jai Ho in the Danny Boyle-directed film Slumdog Millionaire.

He has also been awarded the Grammy Award for this song.

gulzar shayari
gulzar-shayari

1:Gulzar shayari

1)आप के बाद हर घड़ी हम ने
आप के साथ ही गुज़ारी है

Aapke baad har ghadi humne
Aapke saath hi guzari hai.

2)बहुत मुश्किल से करता हूँ, तेरी यादों का कारोबार,
मुनाफा कम है, पर गुज़ारा हो ही जाता है

Bahut Mushkil Se Karata Hun Teri Yaadon Ka Karobar,
Munafa Kam Hai, Par Guzara Ho Hi Jata Hain.

3)सुनो ज़रा रास्ता तो बताना.
मोहब्बत के सफ़र से, वापसी है मेरी.

Suno,Zara Rasta To Btana.
Mohabbat Ke Safar Se Wapsi Hai Meri.

4)शाम से आँख में नमी सी है
आज फिर आप की कमी सी है

Sham Se Aankh mei Nami Si Hai.
Aaj phir Aap Ki Kami Si Hai.

5)वक़्त रहता नहीं कहीं टिककर
इस की आदत भी आदमी सी है

Waqt Rehta Nahin Kahi tikkar
Is Ki Aadat Bhi Adami Si Hai.

6)दिन कुछ ऐसे गुज़ारता है कोई
जैसे एहसान उतारता है कोई

Din kuch aise guzarta hai koi
Jaise ahsaan utarata hai koi .

7)आइना देख कर तसल्ली हुई
हम को इस घर में जानता है कोई

Aina dekhkar tassali hui
Humko iss ghar mein janta hai koi .

8)हाथ छूटें भी तो रिश्ते नहीं छोड़ा करते
वक़्त की शाख़ से लम्हे नहीं तोड़ा करते

Hath chote bhi to rishte nahi choda karte
Waqt ki shakh se lamhe nahi toda karte .

9)ज़िंदगी यूँ हुई बसर तन्हा
क़ाफ़िला साथ और सफ़र तन्हा|

zindagi yun hui basar tanha
Qafila saath aur safar tanha.

shayari gulzar
shayari-gulzar

Also Read this:75+Whatsapp status Love

Also Read this:shayari on life

2:Shayari gulzar

10)आदतन तुम ने कर दिए वादे
आदतन हम ने ए’तिबार किया

Aadatn tumne kar diye wade
Aadtn humne aitebar kiya .

11)हम ने अक्सर तुम्हारी राहों में
रुक कर अपना ही इंतिज़ार किया|

Humne akser tumhari rahon mein
Rukkar apna hi intezar kiya .

12)अपने साए से चौंक जाते हैं
उम्र गुज़री है इस क़दर तन्हा

Apne saaye se chaunk jaate hain
Umr guzri hai iss qadr tanha.

13)ख़ुशबू जैसे लोग मिले अफ़्साने में
एक पुराना ख़त खोला अनजाने में

Khushbu jaise log mile afsaane mein
Ek purana khat khola anjane mein .

14)दिल पर दस्तक देने कौन आ निकला
किसकी आहट सुनता हूँ वीराने में|

Dil par dastak dene kaun aa nikla
Kiski aaht sunta hun virane mein .

15)एक ही ख़वाब ने सारी रात जगाया है
मैंने हर करवट सोने की कोशिश की

Ek hi Khwab ne saari raat jagaya hai
Main ne har karvat sone ki koshish ki

16)आइना देख कर तसल्ली हुई
हम को इस घर में जानता है कोई

Aina dekhkar tassali hui
Humko iss ghar mein janta hai koi.

17)किताबें झाँकती हैं बंद आलमारी के शीशों से
बड़ी हसरत से तकती हैं
महीनों अब मुलाकातें नहीं होती |

Kitaben jhankti hai band almari ke shishon se
Badi hasraten se takti hain
Mahinon ab mulaqaton nahi hoti.

gulzar shayari on life
gulzar shayari on life

3:Gulzar shayari on life

18)अच्छी किताबें और अच्छे लोग
तुरंत समझ में नहीं आते हैं,
उन्हें पढना पड़ता हैं

Achi kitaben aur ache log
Turant smajh mein nahi aate hain
Unhen padhna padta hai.

19)सुनो…
जब कभी देख लुं तुमको
तो मुझे महसूस होता है कि
दुनिया खूबसूरत है

Suno..
Jab kabhi dekh lon tumko
To mujhe mehsoos hota hai ki
Duniya khubsurat hai.

20)मैं दिया हूँ
मेरी दुश्मनी तो सिर्फ अँधेरे से हैं
हवा तो बेवजह ही मेरे खिलाफ हैं

Mein Diya hun
Meri dushmani to sirf andhere se hain
Hwaa to bevjah hi mere khilaaf hain.

21)बहुत अंदर तक जला देती हैं,
वो शिकायते जो बया नहीं होती

Bhut ander tak jlaa deti hain
Wo shikayten jo byan nahi hoti

22)तकलीफ़ ख़ुद की कम हो गयी,
जब अपनों से उम्मीद कम हो गईं

Takliff khud ki kam ho gayi
jab apnon se ummid kam ho gayi.

23)कौन कहता हैं कि हम झूठ नहीं बोलते
एक बार खैरियत तो पूछ के देखियें

Kaun kehta hai ki hum jhut nahi bolte
Ek baar khiriyat to puch ke dekhiye.

24)कुछ बातें तब तक समझ में नहीं आती
जब तक ख़ुद पर ना गुजरे

Kuch baten tab tak smajh mein nahi aati
Jabtak khud par na guzren.

24)शायर बनना बहुत आसान हैं
बस एक अधूरी मोहब्बत की मुकम्मल डिग्री चाहिए

Shayer bannaa bhut aasan hai
Bus ek adhuri mohabbat ki mukamml digri chahiya.

25)वो चीज़ जिसे दिल कहते हैं,
हम भूल गए हैं रख के कहीं

Wo cheez jise dil kehte hain
Hum bhool gaye hain rakh ke kahin

26)तेरे जाने से तो कुछ बदला नहीं,
रात भी आयी और चाँद भी था, मगर नींद नहीं

Tere jaane se to kuch badla nahin
Raat bhi aayi aur chand bhi tha magar nind nahi

27)कैसे करें हम ख़ुद को
तेरे प्यार के काबिल,
जब हम बदलते हैं,
तो तुम शर्ते बदल देते हो

Kaise karen hum khud ko
Tere pyar ke qabil
jab hum badalte hain
To tum sharten badal dete ho.

Also Read This:

गुलज़ार की लिखी 5 बेहतरीन ग़ज़लें

shayari gulzar
shayari gulzar

4:Gulzar sahab shayari

28)किसी पर मर जाने से होती हैं मोहब्बत,
इश्क जिंदा लोगों के बस का नहीं

Kisi par mar jaane se hoti hai muhabbat
Ishaq zinda logon ke bas ka nahi

29)शोर की तो उम्र होती हैं
ख़ामोशी तो सदाबहार होती हैं

shor ki to umar hoti hai
Khamoshi to sdaabhaar hoti hai.

30)दिल अगर हैं तो दर्द भी होंगा,
इसका शायद कोई हल नहीं हैं

Dil agar hai to dard bhi hoga
iska shayad koi hal nahi hai.

31)एक बार तो यूँ होगा, थोड़ा सा सुकून होगा
ना दिल में कसक होगी, ना सर में जूनून होगा

Ek baar to youn hoga thoda sa sukon hoga
Naa dil mein kasak hogi naa ser mein junoo hoga.

32)बेहिसाब हसरते ना पालिये
जो मिला हैं उसे सम्भालिये

Behisab hasraten naa paaliye
Jo mila hai usse sabhaliye

5:Gulzar Quotes on Friendship

33)ज्यादा कुछ नहीं बदलता उम्र के साथ
बस बचपन की जिद्द समझौतों में बदल जाती हैं

zayda kuch nahi badalta umar ke saath
Bus bachpan ki zidd samjhote mein badal jaati hai.

34)बचपन में भरी दुपहरी में नाप आते थे पूरा मोहल्ला
जब से डिग्रियां समझ में आयी पांव जलने लगे हैं

Bachpan mein bhari dopahar mein naap aate the poora muhlla
Jabse diigriyan smajh mein aayi panv jalne lage hain.

जिंदगी के ऊपर ग़ुलज़ार शायरी

35)टूट जाना चाहता हूँ, बिखर जाना चाहता हूँ
में फिर से निखार जाना चाहता हूँ
मानता हूँ मुश्किल हैं…
लेकिन में गुलज़ार होना चाहता हूँ

Toot jana chahta hun bikhar jana chahta hun
Mein phir se nikhar jana chahta hun
Manta hun mushkil hai
Lekin Gulzar hona chahta hun.

36)बिगड़ैल हैं ये यादे
देर रात को टहलने निकलती हैं

Bigdail hain ye yaaden
Der raat ko tehlne nikalti hain.

37)सुना हैं काफी पढ़ लिख गए हो तुम
कभी वो भी पढ़ो जो हम कह नहीं पाते हैं

Suna hai kafi padh-likh gaye ho tum
Kabhi wo bhi padho jo hum keh nahi paate hain.

gulzar sahab shayari
gulzar sahab shayari

6:Gulzar love shayari

38)मैंने मौत को देखा तो नहीं
पर शायद वो बहुत खूबसूरत होगी
कमबख्त जो भी उससे मिलता हैं
जीना ही छोड़ देता हैं

Maine Maut ko dekha to nahi
Par shayd wo bhut khubsurat hogi
Kambakht jo bhi usse milta hai
Jina chod deta hai.

39)पलक से पानी गिरा है,
तो उसको गिरने दो
कोई पुरानी तमन्ना,
पिंघल रही होगी

Palk se pani gira hai
To ushko girne do
Koi purani tamnna
Pighal rahi hogi.

40)ना दूर रहने से रिश्ते टूट जाते हैं
ना पास रहने से जुड़ जाते हैं
यह तो एहसास के पक्के धागे हैं
जो याद करने से और मजबूत हो जाते हैं

Na door rehne se rishte toot jaate hain
Naa pass rehne se jod jaate hain
Ya to ahsaas ke pakke dhage hain
Jo yaad karne se aur mazboot ho jaate hain.

41)तेरी यादों के जो आखिरी थे निशान,
दिल तड़पता रहा, हम मिटाते रहे…
ख़त लिखे थे जो तुमने कभी प्यार में,
उसको पढते रहे और जलाते रहे

Teri yadoon ke jo akhiri the nishan
Dil tadpta rha hum mitate rahe
Khat likhe the jo tumne kabhi pyar mein
Usko padhte rahe aur jlate rahe

42)बहोत अंदर तक जला देती है,
वो शिकायतें जो बयाँ नही होती..

Bhut ander tak jlaa deti hain
Wo shikayten jo byaan nahi hoti

43)सहमा सहमा डरा सा रहता है
जाने क्यूँ जी भरा सा रहता है

Sehma-sehma draa sa rehta hai
Jaane kyoun ji bhraa sa rehta hai.

44)फिर वहीं लौट के जाना होगा
यार ने कैसी रिहाई दी है

Phir waheen laut ke jana hoga
Yaar ne kaisi rihaii di hai.

45)राख को भी कुरेद कर देखो
अभी जलता हो कोई पल शायद

Rakh ko bhi kured kar dekho
Abhi jltaa hai koi pal shayd.

46)ज़ख़्म कहते हैं दिल का गहना है
दर्द दिल का लिबास होता है

Zakhm kehte hain dil ka gehna hai
Dard dil ka libas hota hai.

47)ज़िंदगी पर भी कोई ज़ोर नहीं
दिल ने हर चीज़ पराई दी है

Zindagi par bhi koi zor nahi
Dil ne har cheez praayi di hai.

48)ख़ामोशी का हासिल भी इक लम्बी सी ख़ामोशी थी
उन की बात सुनी भी हम ने अपनी बात सुनाई भी

Khamoshi ka hasil bhi ek lambi si khamoshi thi
Unki baat suni bhi humne apni baat sunai bhi.

gulzar love shayari
gulzar love shayari
7:Gulzar shayari images

49)चंद उम्मीदें निचोड़ी थीं तो आहें टपकीं
दिल को पिघलाएँ तो हो सकता है साँसें निकलें

Chnd ummiden nichodi thi to aahen tapki
Dil ko pighlayen to ho sakta hai saansen niklen.

50)आँखों से आँसुओं के मरासिम पुराने हैं
मेहमाँ ये घर में आएँ तो चुभता नहीं धुआँ

Ankhon se aansuon ke mrasim porane hain
Mehman ye ghar mein aayen to chubhta nahi dhuan.

51)तुझे पहचानूंगा कैसे? तुझे देखा ही नहीं
ढूँढा करता हूं तुम्हें अपने चेहरे में ही कहीं

Tujhe pechanuga kaisey?Tujhe dekha hi nahi
Dhunda karta hon tumhe apne chehre mein hi kahin

52)लोग कहते हैं मेरी आँखें मेरी माँ सी हैं
यूं तो लबरेज़ हैं पानी से मगर प्यासी हैं

Log kehte hain meri ankhen meri maa si hain
Yon tu labrez hain pani se magar pyasi hain

53)कान में छेद है पैदायशी आया होगा
तूने मन्नत के लिये कान छिदाया होगा

Kaan mein ched hai paidayshi aaya hoga
Tone mannat ke liye kaan chidaya hoga

54)आग में क्या क्या जला है शब भर
कितनी ख़ुश-रंग दिखाई दी है

Aag mein kya-kya jlaa hai shab bhar
Kitni khush-rang dikhai di hai

55)यूँ तो ज़िन्दगी में नमक की ही रही
लेकिन जब भी मिला ज़ख्मों पर ही मिला

yun to zindagi mein namak ki hi rahi
Lekin jab bhi mila zakhmon par hi mila

56)नाराज़ तो नहीं थे तेरे जाने से मगर
हैरान इस बात से थे की तुमने मुड़ कर नहीं देखा

Naraz to nahi the tere jaane se magar
Hairan iss baat se the ki tumne modd kar nahi dekha

57)हर शख्स को नफरत यहाँ झूठ से है
लेकिन परेशां हूँ में ये सोचकर फिर झूठ बोलता कौन है

Har shakhas ko nafrat yhan jhuth se hai
Lekin pareshan hun mein ye sochkar phir jhuth bolta kaun hai

58)कभी समझौता किया तो कभी हँसकर ख्वाहिशों को मार गए
रिश्तों को बचाते-बचाते हम ख़ुद से ही हार गए

Kabhi samjhauta kiya kabhi hanskar khwahishon ko maar gaye
Rishton ko bchate-bchate hum khud se hi haar gaye

59)तुम्हारे ख़्वाब से हर शब लिपट के सोते हैं
सज़ाएँ भेज दो हम ने ख़ताएँ भेजी हैं

Tumhare khwab se har shab lipat ke sote hain
Sazayen bhej do humne khtayen bheji hain.

gulzar shayari images
gulzar shayari images
8:Gulzar hindi shayari

60)दिल पर दस्तक देने कौन आ निकला है
किस की आहट सुनता हूँ वीराने में

Dil par dastak dene kaun aa nikla hai
Kiski aaht sunta hon viraane mein.

61)काँच के पार तिरे हाथ नज़र आते हैं
काश ख़ुशबू की तरह रंग हिना का होता

Kanch ke paar tere hath nazar aate hain
Kash khushbu ki trah rang hina ka hota.

62)इतना क्योँ सिखाए
जा रही हो “ज़िन्दगी”
हमें कौन सी यहाँ सदियाँ
गुज़ारनी है यहाँ

Itna kyun sikhaye
Jaa rahi hai “zindagi”
Hamen kaun si yhan sadiyan
guzarni hai yhan

63)काँच के पीछे चाँद भी था और काँच के ऊपर काई भी
तीनों थे हम वो भी थे और मैं भी था तन्हाई भी

Kaanch Ke Peechhe Chaand Bhee Tha Aur Kaanch Ke Oopar Koi Bhi
Teeno The Ham Vo Bhee The Aur Main Bhee Tha Tanhai Bhi.

64)काई सी जम गई है आँखों पर
सारा मंज़र हरा सा रहता है

Kaee See Jam Gaee Hai Aankhon Par
Saara Manzar Hara Sa Rahata Hai

65)खुली किताब के सफ़्हे उलटते रहते हैं
हवा चले न चले दिन पलटते रहते है

Khulee Kitaab Ke Safhe Ulatate Rahate Hain
Hava Chale Na Chale Din Palatate Rahate Hai

Gulzar Famous 10 Ghazal

1)दिन कुछ ऐसे गुज़ारता है कोई

दिन कुछ ऐसे गुज़ारता है कोई
जैसे एहसाँ उतारता है कोई

दिल में कुछ यूँ सँभालता हूँ ग़म
जैसे ज़ेवर सँभालता है कोई

आइना देख कर तसल्ली हुई
हम को इस घर में जानता है कोई

पेड़ पर पक गया है फल शायद
फिर से पत्थर उछालता है कोई

देर से गूँजते हैं सन्नाटे
जैसे हमको पुकारता है कोई

2)दर्द हल्का है साँस भारी है

दर्द हल्का है साँस भारी है
जिए जाने की रस्म जारी है

आप के ब’अद हर घड़ी हम ने
आप के साथ ही गुज़ारी है

रात को चाँदनी तो ओढ़ा दो
दिन की चादर अभी उतारी है

शाख़ पर कोई क़हक़हा तो खिले
कैसी चुप सी चमन पे तारी है

कल का हर वाक़िआ तुम्हारा था
आज की दास्ताँ हमारी है

3)एक पर्वाज़ दिखाई दी है

एक पर्वाज़ दिखाई दी है
तेरी आवाज़ सुनाई दी है

सिर्फ़ इक सफ़्हा पलट कर उस ने
सारी बातों की सफ़ाई दी है

फिर वहीं लौट के जाना होगा
यार ने कैसी रिहाई दी है

जिस की आँखों में कटी थीं सदियाँ
उस ने सदियों की जुदाई दी है

ज़िंदगी पर भी कोई ज़ोर नहीं
दिल ने हर चीज़ पराई दी है

आग में क्या क्या जला है शब भर
कितनी ख़ुश-रंग दिखाई दी है

4)शाम से आँख में नमी सी है

शाम से आँख में नमी सी है
आज फिर आप की कमी सी है

दफ़्न कर दो हमें कि साँस आए
नवज़ कुछ देर से थमी सी है

कौन पथरा गया है आँखों में
बर्फ़ पलकों पे क्यूँ जमी सी है

वक़्त रहता नहीं कहीं टिक कर
आदत इस की भी आदमी सी है

आइए रास्ते अलग कर लें
ये ज़रूरत भी बाहमी सी है

5)ख़ुशबू जैसे लोग मिले अफ़्साने में

ख़ुशबू जैसे लोग मिले अफ़्साने में
एक पुराना ख़त खोला अनजाने में

शाम के साए बालिश्तों से नापे हैं
चाँद ने कितनी देर लगा दी आने में

रात गुज़रते शायद थोड़ा वक़्त लगे
धूप उन्डेलो थोड़ी सी पैमाने में

जाने किस का ज़िक्र है इस अफ़्साने में
दर्द मज़े लेता है जो दोहराने में

दिल पर दस्तक देने कौन आ निकला है
किस की आहट सुनता हूँ वीराने में

हम इस मोड़ से उठ कर अगले मोड़ चले
उन को शायद उम्र लगेगी आने में

6)सब्र हर बार इख़्तियार किया

सब्र हर बार इख़्तियार किया
हम से होता नहीं हज़ार किया

आदतन तुम ने कर दिए वा’दे
आदतन हम ने ए’तिबार किया

हम ने अक्सर तुम्हारी राहों में
रुक कर अपना ही इंतिज़ार किया

फिर न माँगेंगे ज़िंदगी या-रब
ये गुनह हम ने एक बार किया

7)बीते रिश्ते तलाश करती है

बीते रिश्ते तलाश करती है
ख़ुशबू ग़ुंचे तलाश करती है

जब गुज़रती है उस गली से सबा
ख़त के पुर्ज़े तलाश करती है

अपने माज़ी की जुस्तुजू में बहार
पीले पत्ते तलाश करती है

एक उम्मीद बार बार आ कर
अपने टुकड़े तलाश करती है

बूढ़ी पगडंडी शहर तक आ कर
अपने बेटे तलाश करती है

8)जब भी ये दिल उदास होता है

जब भी ये दिल उदास होता है
जाने कौन आस-पास होता है

आँखें पहचानती हैं आँखों को
दर्द चेहरा-शनास होता है

गो बरसती नहीं सदा आँखें
अब्र तो बारह-मास होता है

छाल पेड़ों की सख़्त है लेकिन
नीचे नाख़ुन के मास होता है

ज़ख़्म कहते हैं दिल का गहना है
दर्द दिल का लिबास होता है

डस ही लेता है सब को इश्क़ कभी
साँप मौक़ा-शनास होता है

सिर्फ़ इतना करम किया कीजे
आप को जितना रास होता है

9)शाम से आज साँस भारी है

शाम से आज साँस भारी है
बे-क़रारी सी बे-क़रारी है

आप के बा’द हर घड़ी हम ने
आप के साथ ही गुज़ारी है

रात को दे दो चाँदनी की रिदा
दिन की चादर अभी उतारी है

शाख़ पर कोई क़हक़हा तो खिले
कैसी चुप सी चमन में तारी है

कल का हर वाक़िआ’ तुम्हारा था
आज की दास्ताँ हमारी है

10)तुझ को देखा है जो दरिया ने इधर आते हुए 

तुझ को देखा है जो दरिया ने इधर आते हुए 
कुछ भँवर डूब गए पानी में चकराते हुए

हम ने तो रात को दाँतों से पकड़ कर रक्खा
छीना-झपटी में उफ़ुक़ खुलता गया जाते हुए

मैं न हूँगा तो ख़िज़ाँ कैसे कटेगी तेरी
शोख़ पत्ते ने कहा शाख़ से मुरझाते हुए

हसरतें अपनी बिलक्तीं न यतीमों की तरह
हम को आवाज़ ही दे लेते ज़रा जाते हुए

सी लिए होंट वो पाकीज़ा निगाहें सुन कर
मैली हो जाती है आवाज़ भी दोहराते हुए

Leave a Comment

Thor: Love and Thunder’ Trailer Breakdown Love status | Whatsapp status love Anime love quotes | Quotes about love anime Bhool Bhulaiyaa 2 box office day 4 collection Priyanka Chopra Nick Jonas | Nick Jonas Priyanka Chopra Photos